May 26, 2018 - Ankur Mishra    No Comments

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला पत्र – यह जनता की सरकार नहीं, तानाशाही है !

प्रिय प्रधानमंत्री जी,

आपने अपने कार्यकाल के चार साल पूरे कर लिए है आपको और आपके मंत्रालय को बहुत बहुत बधाइयाँ!

देश में क्या चल रहा है? कैसे चल रहा है शायद आप कुछ बातो से अवगत नहीं होंगे और कुछ बातो से अवगत होते हुए भी उसे नजरअंदाज कर रहे होंगे क्योकि आपको पूरे देश में भाजपा का एक एकल राज्य फैलाना है! मुझे अब भी याद है चार साल पहले आप जब जनता से वोट मांगने जाते थे तो आप अपने भाषणों में बोलते थे मुझे १०० दिन दे दो, मुझे १ साल दे दो मुझे पांच साल दे दो, मै काला धन ले आऊंगा, भ्रष्टाचारियों को जेल के अंदर डाल दूंगा, सीमा विवाद समाप्त कर दूंगा, गरीबी ख़त्म कर दूंगा, बेरोजगारी ख़त्म कर दूंगा, भ्रष्टाचारियो को सरकार का हिस्सा नहीं बनने दूंगा … इत्यादि !

मगर आज क्या हो रहा है पूरे देश में, चुनाव आयोग से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक आपका कब्ज़ा है, अपने लोगो को बैठालकर मनमानी की जा रही है ! हिमाचल और गुजरात में एक साथ चुनाव होना निश्चित होते है हिमाचल की चुनाव और परिणाम दोनों की तारिख की घोषणा कर दी जाती है मगर गुजरात की केवल परिणाम की तारीख जनता को बतायी जाती है ! ऐसा क्यों होता है? अपने आरएसएस के वज्जु भाई को कर्नाटक का राज्यपाल घोषित कर देते है जो आपको भविष्य में सहायक होगा, और हुआ भी!

जस्टिस लोया, गौरी लंकेस और अनेक बड़ी हत्याओं में आप शांत रहते है!  क्यों?

मगर आज एक समस्या इन सबसे ऊपर है! समस्या है बोलने की आजादी छीनी जा रही है, ऑन-लाइन हो या ऑफलाइन कही भी खुलकर आप बात नहीं कर सकते है ! इस पात्र को पढ़ने के बाद भी मुझे न जाने क्या क्या बाते सुनने को मिलेंगी! सरकार की नीतियों के खिलाफ आप कुछ भी बोलते है आपको गालियाँ मिलने शुरू हो जाती है जान से मारने की धमकियाँ मिलनी शुरू हो जाती है! मीडिआ जो लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ होती है उस पर आपने पूरा कब्ज़ा किया हुआ है जो कुछ स्वतंत्र पत्रकार है वो खबरे दिखाने के बाद खुद को असुरक्षित महसूस करते है ! एक पत्रकार टीवी पर हमले होते है, एक को जान से मारने की धमकियाँ मिलती है वो इसलिए क्योकि वो सरकार के खिलाफ बोल रहा है !

पत्रकार और जनता – पिछली सरकारों में भी सरकार के खिलाफ बोलते थे, सही और गलत पर उंगली उठाते थे तब कोई हत्याएं नहीं हुयी, धमकियाँ नहीं मिली आन लाइन गलियां नहीं मिली! जितने धरने आपने और अन्य लोगो ने पिछली सरकारों के सामने कर लिए क्या आप वो सब करने के लिए अनुमति देते हो?

नहीं! कुछ भी ऐसा होता है तो तुरंत लाठियाँ चल जाती है !

यह जनता की सरकार नहीं, तानाशाही है !

लोगो से बोलने का अधिकार छीनना लोकतंत्र की स्वतंत्रता का हनन है !

भाजपा के, देश के आप के और मेरे सबसे चहीते प्रधानमंत्री अटल जी का एक भाषण सुन रहा था आज मै – उन्होंने चुनाव प्रचार की बात की और सबसे पहले बोला की कांग्रेस ने साठ साल में बहुत ही सराहनीय काम किये है लेकिन कुछ चीजे हैं जो नकारात्मक हो सकती है, मगर मैंने उनका सहारा नहीं लिया ! मै देश की जनता की भलाई की चीजों को चुनावी मुद्दा बनाऊंगा और पहले बनाया है !

अभी भाजपा, आप और आपके समर्थक बस एक शब्द कहते है – कांग्रेस ने देश को साठ सालो में बस लूटा है ! अगर बस लूटा है तो देश आज जहाँ है वहाँ कैसे है ! और अगर आपको यह बात पहले से पता थी की देश को लूटने के कांग्रेस ने साठ साल लिए है तोह हमें सही करने में साठ साल ही लगेंगे तब चुआव के वक्त आपने १०० दिन १ साल और ५ साल के वादे क्यों किये थे? जनता को अब यही लगता है की आपकी सारी नीतियों में पानी फिर गया है विकास की तरफ पूरा देश वैसे ही देख रहा है जैसे चार साल पहले देख रहा था ! आपने बस आरएसएस के लोगो को निकालकर बड़े बड़े पद दे दिए है ! राम नाथ कोविंद में ऐसी कौन सी खासियत है की उन्हें देश का राष्ट्रपति बनाया जाये? क्योकि वो आरएसएस से समबन्धित है बस इसलिए ? अगर कुछ अनजान रहस्य है तो बताइये !

प्रधानमंत्री जी मुझे पता है २०१९ में आपकी ही सरकार आएगी मगर बस मजबूरी में मजबूती में नहीं, क्योकि देश के पास कोई केंद्रीय विकल्प नहीं है ! मगर २०२४ भाजपा का वही हाल होगा जो कांग्रेस का २०१४ में हुआ था ! प्रधानमत्री जी पिछले चार सालो में आपने जनता को बस एक जगह कही न कहीं व्यस्त करके रखा है कभी आधार तो कभी नोटबंदी में! जनता को सोचने का कभी वक्त ही नहीं दिया आपने ! लोग अपनी ९-५ की जॉब के बाद बस आपकी योजनाओ में फंस के रह गए हैं!

अभी वक्त है!

आप सोचिये आपको 2019 में अच्छी सरकार बनानी है या बस सरकार बनानी है !

modi cycling

आपके देश का एक आम नागरिक

अंकुर मिश्रा

Got anything to say? Go ahead and leave a comment!