मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक खुला पत्र – आशाएं बहुत है आपसे, निराशा में मत बदलियेगा

नमस्कार सर,

मुख्यमंत्री बनाए जाने के लिए शुभकामनायें ! कैसे है ? आपका कार्यकाल कैसा चल रहा है ?

मैं अंकुर मिश्रा – उत्तर प्रदेश का एक आम नागरिक!

आशा है आप कुशल होंगे ! वक्त आगे बढ़ रहा है उत्तर प्रदेश में आपको भारी बहुमत मिला है, जितना कभी आपने भी नहीं सोचा होगा ! सभी जानते है और मानते है की योगी जी हिंदुत्व की आधुनिक परिभाषा हैं ! प्रदेश में बढ़ती साम्प्रदायिकता को समाप्त करने लिए भी आपको ये अवसर दिया गया है! ख़ुशी है की आप एक साधारण परिवार से आते है और  पूर्वांचल में बहुत विकास कराया है ! एक उत्तर प्रदेश का नागरिक होने के नाते आपसे कुछ आशाएं है:-

  1. योगी जी प्रदेश में शिक्षा के लिए आप क्या कर रहें है, शिक्षा जिंदगी की सीढ़ी बनाती है ! शिक्षा ही एक नागरिक की जिंदगी निर्धारित करती है! आपसे निवेदन है की उत्तर प्रदेश में शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाए ! मुख्यतः प्रदेश के गाँवो की शिक्षा में, जहाँ नाम के लिए अध्यापक और विद्यार्थी तो होते है मगर शिक्षा नहीं होती ! शिक्षा को कूड़ेदान में डालकर आराम फार्मा रहे होते है ! इसलिए आपको ग्रामीण प्राथमिक शिक्षा पर विशेष ध्यान देने की  जरूरत है ! यही से देश का  ७0 % से ज्यादा युवा निकलता है !  साथ ही साथ सभी स्तर की शिक्षा के लिए विशेष और कड़े नियम बनाने की जरूरत है जिससे सही टैलेंट आएगा और पढ़े लिखे बेरोजगारों की फ़ौज तैयार नहीं होगी !
  2. मेरा दूसरा निवेदन है प्रदेश में रोजगार के ज्यादा से ज्यादा अवसर उपलब्ध कराये जाने चाहिए ताकि प्रदेश में रहने वाले लोगो को बाहर नहीं जाना पड़े! हर तरह का रोजगार प्रदेश के अंदर ही होना चाहिए, कोई ज्यादा पढ़ा लिखा हो या कम पढ़ा लिखा उसे प्रदेश के अंदर ही जॉब उपलब्ध हो सके! प्रदेश में हर तरह की सुविधाएँ है बस उन्हें सही ढंग से लागू करने की जरूरत है, लोग हैं, पैसा है, टैलेंट है फिर भी हम बाहर क्यों जाते है?
  3. आइडियाज  जनता से लेकर, उन्हें समझकर बड़े स्तर पर लागू करने की जरूरत है ! हर व्यक्ति के अंदर समाज की समस्या का समाधान होता है वो भी सरल तरीके में ! इन्ही सब आइडियाज को इम्प्लीमेंट करके, प्रदेश के नवजवान देश के दूसरे हिस्सों में जाके वहाँ का भला कर रहे है तो क्या हम उन्हें प्रदेश के अंदर ही अच्छी सहूलियत नहीं मुहैया करवा सकते हैं? छोटे छोटे स्टार्टअप्स को आगे आकर सरकार का  साथ देने की जरूरत है, जो प्रदेश हित और राष्ट्र हित में है !
  4. आपके लिए भी सबसे बड़ा मुद्दा राममंदिर ही है, वैसे आपको ये भी मानना होगा की प्रदेश के ५०%  से ज्यादा हिन्दू वोट भी आपको राम मंदिर की वजह से ही मिले है! असल मसला यही है – कुछ राम मंदिर चाहते है और कुछ मस्जिद चाहते है ! लेकिन क्या आपको कोई बीच का उपाय नहीं निकालना चाहिए जिससे कोई दंगा फसाद न हो और दोनों ख़ुशी ख़ुशी रहे ! मै यह इसलिए लिख रहा हूँ क्योकि मेरे खुद के पिता जी ने १९९० में लाठियां खायी है, राम मंदिर के लिए ! क्या यही एक उपाय है, क्या यही राम या अल्लाह ने हमें सिखाया है? मारो और मरो?
  5. अगली सबसे बड़ी समस्या है स्वच्छता ! आप तो जानते है स्वच्छता में हमारी और हमारे प्रदेश की क्या दशा है, वैसे इसमे सबसे पहला कदम जनता का ही होता है! और उसे सफाई अपने घर से शुरू करनी चाहिए, मगर जनता सोई पड़ी है! उसे जगरूप करने की जरूरत है, कड़े कानून बनाने की जरूरत है जिससे जनता गन्दगी करने की जुर्रत न कर पाए !
  6. सुरक्षा – प्रदेश की पुलिस सबसे ज्यादा बदनाम है! जिसने हमेश गुंडों का साथ दिया है, उनका नजरिया बदलने की जरूरत है! उनको सही और गलत में फर्क करना सिखाना जरूरी है ! प्रदेश की जनता उनके बल पर चलती है मगर चंद लोगो ने पूरे सिस्टम को बदनाम करके रख दिया है ऐसे चंद लोगो को सिस्टम से बाहर करने की जरूरत है!
  7. प्रदेश का हर नुक्कड़ पर बने ऑफिस में चल रहे घूष खोरी के धंधे को बंद करने की जरूरत है! कोई पेंसन के लिए पैसे दे रहा है तो कोई ड्राइवर लाइसेंस के लिए ! कोई आपको आपके अधिकारी से मिलवाने के लिए पैसे ले रहा है तो कोई नौकरी पाने के लिए ! यह प्रदेश की सबसे बड़ी समस्या है, इसी के जरिये लाखो छात्र बिना परीक्षा दिये, डिग्री ले आते है ! भ्रष्टाचार के जरिये हर सिस्टम को बाजार बना दिया है जहां सब कुछ बिकता है !
  8. उन गुंडों को सुधारने की जरूरत है जो अपनी पार्टी की सरकार बनने का इंतजार करते है और उसके आने पर गुंडागर्दी शुरू कर देते है ! गाड़ी में आगे सप्ताधारी पार्टी का झंडा लगाकर अपनी मनमानी करते है ! ऐसे लोगो को मैंने आपकी इसी सरकार के बनने के बाद देखा है! ऐसे लोग पार्टी और नेता दोनों का नाम बदनाम करते है और आम जनता को परेशान करते है हजारो तरीके के नाजायज टैक्स वसूलते है ! इस समस्या का समाधान आपको तुरंत निकलना चाहिए !

— और भी बहुत सारे सुझाव प्रदेश का हर आम नागरिक दे सकता है ! बस इनको अमल में लाना होगा !!

प्रदेश की जनता ने एक नयी सुबह का सपना देखा है और दिखाया है आपके चुनाव से पहले के भाषणों ने और आप जैसे मुख्यमंत्री ने! जो सप्ता का  लालची नहीं लगता, जिसे विकास करना है प्रदेश के खोखलेपन को ख़त्म करना है, प्रदेश को सुरक्षित करना है!
बलात्कार, भ्रष्टाचार, महंगाई, टूटी सड़के, आत्महत्या करते किसान, भूख से मरता गरीब और पांच साल तक फिर से रोती जनता ! अब नहीं चाहिए !
सर प्रदेश में नयी आशा आयी है, निराशा दूर भागी है!
सर मुझे आपमें एक भविष्य दिखता है, युवा भविष्य जो प्रदेश की बूढ़ी राजनीती से परे है, ऐसा भविष्य जो अगर पापी राजनीती में न पड़े तो प्रदेश का नक्शा बदल सकता है! मेरे जैसे कई और लोग भी होंगे जिन्हें आपसे कुछ आशा होगी ! उनकी आशा को निराशा में मत बदलने दीजिये !
देश को सबसे अच्छे नागरिक दिए है इस प्रदेश ने फिर भी उसकी यह दशा है क्यों?
उसे बदलने का एक सही प्रयास तो करिये !!

उत्तर प्रदेश का एक आम नागरिक

 

(Image Credits: Manoj Sinha and Ramesh G)

Got anything to say? Go ahead and leave a comment!