Nov 26, 2016 - Ankur Mishra    No Comments

Salute to Mumbai 26/11 Martyrs and Survivors: Politicians divide us, terror unites us [Bitter Truth]

Its more than 8 years now, but terror is still alive.

I live in Delhi. So, I have not faced actual terror. But for the next 4-5 days, my TV was continuously showing the live broadcast of Mumbai terror incidents, And those incidents have left a terrific image on every Indian’s mind including me.

Pakistan Government, ISI, LeT are the culprits. Actually with the help of Azmal Kasav, Indian Government has known those information.

Some of our brave NSG commandos, Havildars, Encounter specialists have lost their lives to save the common people.

I feel that those attacks were a wake-up call for us, our intelligence agencies and other security forces like the Coast Guards. The attacks led to major revamps in various government departments and our coastal borders are a well guarded now.
After this incident, I thought Indian security agencies made their best system to stop the next 26/11. But again, we faced Pathankot and Uri Attack. In Uri Attack, 8 soldiers were killed during their sleep unguarded and did not get killed in a crossfire or while fighting the enemies. In same way we lost many lives in Pathankot.

Does this not raise serious security concerns? Particularly when It is happening again and again.

We do not spend huge taxpayer’s money on training our soldiers so that they can get killed easily by the hands of the enemy. But we train them hard to safeguard our country from the enemy, kill the enemies where required. 
But we are losing Indians/ our soldiers, again and again, and we are happy calling them martyrs or veer jawans.
Why are people and media not raising these issues, discussing them, identify the crooks and make the officials responsible and accountable for their actions and lapses?
If these are not serious security lapses, then what do we call them?

But for me every year this day reminds to unite and salute the Indian Army. They are the silent guardians. They are the watchful protectors. They are our Dark Knights.

I Salute to Mumbai 26/11 Martyrs and Survivors.

Pradhan Sewak Ji – This is not a Bold Decision, this is the worst Decision

Dear Pradhan Sewak Ji, Our media, our politicians are centralized towards Delhi. They are just focused here. Whole India is not Delhi NCR. If we are surviving here, it doesn’t mean, whole India is surviving.  
Here my main concern is, why our Media’s main focus is Delhi – NCR, Every news is focused and centralized towards Delhi. They go and cover Bank and ATMs of Delhi NCR and create a hypothesis. Boss if you want to see the real condition and struggle please go, watch and cover any village of UP. Today they don’t have a single penny. There is single bank for thousand of villages, there is no ATM.
Is this your incredible OR digital India?
No.
Sorry.  This is not.
You made this place like hell.
Pradhanmantri Ji, Public know everything, You are following wrong assumptions, no one is supporting you. The public is just silent because they don’t have any other choice. Call elections tomorrow, they will tell you what exactly you did wrong with them. If you have guts please try this, OR you will see in next state elections. 
Chaiwala can’t take payment online, Small Sabjiwala can’t take payment online, Small rikshaw wala can’t take payment online, Small fruits wala can’t take payment online, a labour man can’t take payment online …. etc. (This list is very long). This is the 80% public of India.  If you are dreaming for 20% or 1% (the list is given below) then you are worst prime minister of India.

Dear Pradhan Sewak Ji, As per your Feku things you just carried out a surgical strike on black money. I want to discuss something with you, but first, I am sharing some stats-

  1. Bad Loans of Indian Banks right now is close to Rs. 6,00,000 crore.
  2. PSU Banks are in a miserable condition right now, and need an immediate infusion of money to shore up their lending capacities.
  3. A few weeks back credit rating agency Moody’s had stated that Indian Banks require Rs. 1.25 lakh crore capital infusion.
  4. In July 2016 the Centre injected 23,000 crores into 13 Public Sector Banks.
  5. Jaitley said it in 2015 that the Centre would pump in more than 70,000 crores in PSU banks in coming 4 years.
  6. This demonetization is nothing but a measure to infuse money in those ailing Banks so as to shore up their lending capacities.
We are just watching the people queuing up banks to deposit their hard earned money, waiting hours for their turn? This is what we got by this surgical strike. To curb the menace of black money? By bringing in new Rs. 2000 note? LOL
You are just simplifying hoarding of black money by bringing in new notes of higher denomination.
We are just a deposit queue. 
Withdrawal queue for big amounts is full with big names, these are some of best friends of our Pradhan Sewak Sahab:-
 

GVK Reddy (GVK Group) (33933 Crores)

Venugopal Dhoot (Videocon Group) (45405 Crores)

Madhusoodan Rao (Lanco Group) (47102 Crores)

G M Rao (GMR Group) (47976 Crores)

Sajjan Jindal (JSW Group) (58171 Crores)

Manoj Gour (Jaypee Group) (75163 Crores)

Goutam Adani (Adani Group) (96031 Crores)

Shashi Ruia & Ravi Ruia (Essar Group) (101000 Crores)

Anil Aggarwal (The Vedanta Group) (103000 Crores)

Anil Ambani (Reliance Group)(125000 Crores)

We are just government’s work, crony capitalism, which just carried out a surgical strike in your pockets, and now you are running like chickens.
The rich don’t keep cash nowadays it’s all in the real estate and Gold.

1. Stock Market would crash – People without having a clear idea about the situation would try to save their fortunes and would start pulling out their money from the stocks that are going to be hit by this storm.

2. People with huge piles of paper currency are going to lose their calm – The day will start with Trade unions and other such unions coming together to protest and do marches.

3. Money’ll be sucked out of the market. – In coming weeks or months, there would be so much decline in trade and commerce.

4. Decline in the GDP – the GDP of India will decline heavily as confusion and tax obstacles in trade will hamper growth.

5. Inconvenience to people:– People will have to become slaves of banks and government officials. Long queues will be a common sight from nowadays.See the long queues ? All middle class and poor people can be seen in queues.

6. Loss to common People :- Many people have fake currency that it unintentional or earned by hard work and they are using it without knowing. Now banks will refuse to take fake money it direct loss for innocent people.

7. Rise in corruption:- imagine this, you have pass Rs. 1 lacs you go to exchange, cashier said “sab nakli hai be! line se hat baki bhi khade hai”,then you are screwed, whther it is fake or not.While local politicians and powerfull people will exchange their notes easily by paying bribes and CAs will facilitate them by finding all loopholes. CAs will be biggest beneficiaries as people have to employ their expensive services.

It will trigger more corruption, which is one of the most effective sources of black money. Those who give cash to the banks, will be asked for explanations, which will increase corruption. It seems it is election funding program for the rulers.

8. Loss of Tax Payers Money :- Rs 500 prnting costs Rs 2.5 and Rs.1000 costs Rs 3 , (approx ).Multiply it by number of notes present in India ;now government has to pay this money from taxpayers.

9. Inflation:- Due to above price rise will occur. All basic goods will cost more.

10. Now understand that since most of the black money is stored in Rs. 500 and Rs. 1000 currency notes. Since these notes cannot be tendered anymore, the consumption demand will go down drastically (how will people buy jewellery, property and other high value items without black money?). As consumption demand will hit a new low, the economy will essentially find itself in a recession. By this time, government will also start another round of voluntary disclosure scheme and fill its coffers with unprecedented disclosure taxes and fines.

A good way to loot people like the British regime which introduced taxation.

People in remote areas, labor in unorganized sectors are being paid in case. Most payment so made in these denomination notes. India being cash economy may collapse, or at least halt its rural economy by this move.

It is an Indian thing in villages and small towns for housewives to keep their saved cash hidden away from their husbands and other family members. Invalidation of Rs 500 and 100o notes will jeopardize this scheme. Households with liquor problems will provide the husbands to seize control of the hidden cash. Also, general day to day purchase may be impacted due to lack of cash in hand.

Nov 14, 2016 - Ankur Mishra, INDIA, Politics    No Comments

Demonetization is not good for BJP’s Health

Many state elections are coming in next few months, demonetization is not good for BJP’s Health, it may give you big shock in Next State Elections.

Many of my friends are commenting on me, I am not accepting good things. Modi ji did a historical thing which will change the India. But really he did? I actively support this move, but the implementation is poor and the blame partly lies with the media and the Opposition.

After a long thought process, I am writing this.

Think about it for a moment. This move does not affect the upper-class elites who can use cards or survive with their existing cash or the ones who actually hoarded black-money in the form of dollars in the Swiss banks, but the Aam Aadmi in the suburban and rural backgrounds. They really feel the pinch in the pocket and would never forgive Modi if situation goes out of control and snowballs into large-scale riots. (I hope it does not , I actively support this move, but the implementation is poor and the blame partly lies with the media and the Opposition).

Elections in India, is never fought on the lines of corruption, economy or policies. Its only us- the middle and upper-class elites who can afford to use social media- talk on those lines. The majority of rural India- still votes on the lines of hunger, employment, caste and religion.

The demonetization affects traders, merchants and small vendors. Infact, traders form the core votebank of BJP in Gujarat and Maharashtra. Their businesses are running in losses.  Read Here

The farmers also find it difficult as this move would threaten their Rabi crop sowing.

A story of a 96-year old who died waiting in a bank for exchanging his notes is shared quite extensively across social media as a ‘proof ’ that demonetization has actually killed people directly-
Read Here

Wow- Thats an eye-ball grabbing headline- Demonetization Woes!. Indeed??.

Never mind the fact that the man was actually suffering from a history of strokes for the past couple of years and would have died anyway- irrespective of him standing in a queue. But who cares about facts?. The man was standing in the bank to exchange his notes. He suffered a stroke and died. So blame the demonetization move and brand Modi as a murderer.
Janta don’t want another Godhra Modi Sir.

If the transition of the notes is smooth and people face no hassles, then this short-term inconvenience would be forgotten and forgiven. If not- people will remember the short term pain more than the intentions of the government behind this move. And it will subsequently reflect in the next elections.

Oct 24, 2016 - Ankur Mishra, Politics    No Comments

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को एक खुला पत्र – उत्तर प्रदेश के भिखारियों को भी दूसरे प्रदेशो में जाके भीख मांगनी पड़ती है, क्या यही विकास है ?

हेल्लो अखिलेश यादव जी,

कैसे है ? आपका कार्यकाल कैसा चल रहा है ?
दो-तीन दिनों से कुछ लड़ाइयां टीवी में दिखाई जा रहीं है ! मुझे नहीं पता यह कितना सही है और कितना गलत ! मगर यदि प्रदेश हित में आप कोई भी कदम उठा रहे, जिसमे आपने अपने परिवारिक बिलगाव की भी चिंता नहीं  की तो मैं आपका सम्मान करता हूँ ! खैर वो आपका पारिवारिक मामला है आप निपट ही लगे उससे! उत्तर प्रदेश की बात करते है, वैसे तो मेरा जन्म आपके प्रदेश के ही जिटकरी नामक गाँव में हुआ था जहां आज तक आपकी या किसी और पार्टी की सरकार पक्की सड़क और बिजली नहीं पहुंचा पायी ! खैर आपको इस बात से कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है क्योंकि आपको वोट तो साइकल और लैपटॉप बटवाने से ही मिल जाते है !
आपको ये तो पता ही होगा की हमारे देश के बड़े शहरो में उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगो को कैसे देखा जाता है, जैसे हम भुखमरी और बेरोजगारी से मरे जा रहे हो ! हमारे यहां कोई नौकरी नहीं है तो हम दूसरो के शहरो में जाते है नौकरी करने ! यहाँ तक की हमारे प्रदेश के भिखारियों को भी दूसरे प्रदेशो में जाके भीख मांगनी पड़ती है, क्या यह सब सही हो रहा है ?
कोई कभी राम मंदिर के नाम से वोट लेकर चला जाता है तो कभी कोई अनुसूचित जाति/ जनजाति के आरक्षण के नाम पर, कभी कोई लड़कियों को बीस बीस हजार रुपये दिला देता है तो कभी को परिक्षाओ में खुला नक़ल करा देता है, क्या यही भविष्य रहेगा हमारे उत्तर प्रदेश का ? अखिलेश सर आप उस भीड़ से निकलकर मुख्यमंत्री बने थे जहां पर युवाओ का और युवा सोच बोल बाला होता है,  लोग कुछ अलग सोचते है ! जिस पीढ़ी को महान राष्ट्पति अब्दुल कलम ने देश का भविष्य बताया था, मगर आप भी दलदल वाली राजनीती में फ़स गए ! सफेदी पहन कर आप भूल गए की आपको ऐसा उत्तर प्रदेश मिला था जिसे आप सुनहरा बना सकते थे !जब  मुख्यमंत्री बने थे तो मुझे लगा था अब मेरा प्रदेश बदलेगा! मगर मेरा प्रदेश तो और डूबने लगा! किलकारियां और बेजान जाने और जाने लगी, हाँ विकास हुआ मगर जहां विकास पहले चल रहा था, पिछड़ा इलाका और पिछड़ गया ! उन्नति हुयी नंबर भी बढ़े मगर  बलात्कारों के, हत्याओ के, बेरोजगारों के !
सर मैं कभी भी अपने प्रदेश से बाहर जाकर नौकरी नहीं करने वाला था, मगर अब कर रहा हूँ बाहर हूँ, दूसरे प्रदेश में हूँ! क्यों? क्योंकि मेरे खुद के प्रदेश में काम करने के लिए जगह नहीं और वो क्यों नहीं है क्योकि सरकार बस विकसित को और विकसित बनाने में लगी है, अमीर को और अमीर बनाने में लगी है ! इससे पहले आपको बहुत  ई मेल लिखे है, खत लिखे है मगर उसका कोई जबाब नहीं आया !
सोचा इस बार यहां लिखता हूँ, शायद आपकी नजर पड़ जाए ! सर प्रदेश को सही शिक्षा की जरूरत है, सही स्कूलों की जरूरत है, प्रदेश की प्राइमरी शिक्षा पतन पर है, विकास की पहली सीढ़ी होती है वो उसे सही करने का प्रयास करिये, कड़े कानून लाइए वहां पर, मैंने खुद पर्सनल स्टार पर प्राइमरी स्कूल के बच्चो के लिए काम किया है, पढाई का सस्तर बहुत गिरा हुआ है वहां पर !
साइकल और लैपटॉप जैसी चीजो का वितरण बंद करवाइये, बेरोजगारों को रोजगार दीजिये ! प्रदेश के शहरो में नयी छोटी कंपनियों को काम करने का मौका दीजिये उनकी सहायता करिये जो भविष्य में प्रदेश के रोजगार का बड़ा माध्यम बन सकते है ! सुरक्षा व्यवस्था को खुद से हटाकर प्रदेश हित में लगाइये ! और भी बहुत सारी चीजे है, कभी मुलाकात हुयी तो खुलकर बात करेंगे !
सर मुझे आपमें एक भविष्य दिखता है, युवा भविष्य जो प्रदेश की बूढ़ी राजनीती से पर है, ऐसा भविष्य जो अगर पापी राजनीती में न पड़े तो देश का नक्शा बदल सकता है ! मेरे जैसे कई और लोग भी होंगे जिन्हें आपसे कुछ आशा होगी !उनकी आशा को निराशा में मत बदलने दीजिये !
देश को सबसे अच्छे नागरिक दिए है इस प्रदेश ने फिर भी उसकी यह दशा है क्यों? उसे बदलने का एक सही प्रयास तो करिये !!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला पत्र – साहब कैमरा और भाषणों से बाहर वास्तविकता की जमीन पर आओ

प्रधानमंत्री जी – भारत माता की जय !!

आशा है कुशल मंगल होंगे, अच्छा लगता है जब आप अपने भाषण भारत माता की जय के उदघोष के साथ शुरू करते है ! अच्छा लगता है जब आप राष्ट्रभाषा में अपने भाषणों को बोलते है ! अच्छा लगता है जब आप विदेशो में जाकर हमारे भारत का व्याख्यान करते है ! अच्छा लगता है जब मैं आपके चुनाव के पहले वालो भाषणों को सुनता हूँ, अच्छा लगता है एक चाय वाला आम आदमी देश का प्रधानमंत्री है !
मगर कभी लगता है आप गुजरात मुख्यमंत्री तक ही अच्छे थे, आपके गुजरात के विकास को देखकर दूसरे प्रदेश भी अपने विकास में लग जाते थे दूसरे राज्यो के लिए आदर्श थे आप ! आज आप प्रधनमंत्री हो, देश छोडो प्रदेशों का विकास रोकने में लग गए हो आप ! चुनाव में जनता को पंद्रह  लाख के सपने दिखाए थे न आपने ? 250000000 से ज्यादा लोगो को दो वक्त की रोटी नहीं मिलती यहाँ ! आपने देश के बाहर तो खूब  भ्रमण किया मगर क्या कभी घर में- किसको खाना मिला किसको नहीं मिला, यह जानने की कोशिश की? साहब प्रधान सेवक बुलवाते हैं न अपने आप को आप, मालिक के मालिक बनकर रहते हो आप और आपके अमित साह जी ! सर एक बात पूंछनी थी, जब आम आदमी पार्टी के विधायको का कोई छोटा सा केस भी सामने आया आपने पूरी पुलिस और मीडिया उनके पीछे लगा दी, मगर जब अमित साह के नाम का एक आत्महत्या का पत्र मिला तब आपने सब कुछ दबा दिया न कोई मीडिया न कोई पुलिस, ऐसा करने के पीछे कोई मिसन ?
आप पाकिस्तान जायेगे शादी अटेंड करने, आपके देश के लोग जायेगे दूसरे देशो  में पढ़ने और नौकरी करने मगर पाकिस्तान के एक्टर भारत में काम नहीं कर सकते, ऐसा क्यों ?
हमें एक काम करना चाहिए, बटवारे के वक्त जितने लोग पाकिस्तान की जमीन से भारत आये थे उन्हें या उनके परिवार को पाकिस्तान भेज देना चाहिए, ऐसे समाधान निकलोगे आप आतंकवाद से लड़ने का?
साहब आपको सप्ता जनता ने दी है, वो भी उस बुनियाद पे जो आपने चुनावी रैलियों में वादे किये थे ! उनमे से आपने कुछ किया? विदेश यात्रा और विदेश नीति अच्छी होनी चाहिए मगर उसके पहले देश का विकास होना चाहिए ! देश में रोजाना 21000 से ज्यादा लोग लोग मरते है , भूख के कारण, मोदी जी प्रधान सेवक होने के नाते क्या आपको यह बात पता है ?
रोजाना औसतन 100 महिलाओ के साथ दरिंदगी , बलात्कार होते है , क्या प्रधान सेवक होने के नाते आपको यह बात पता है ? करोङो रुपये अभी भी रिश्वत के नाम पर ऊपर नीचे होते है,  क्या आपको पता है ?
भारत की किसी भी  जमीनी  समस्या के बारे में आपको पता है मोदी जी ? नहीं आपको नहीं पता है !
आप प्रधानसेवक नहीं तानाशाह बनने जा रहे हो साहब, सूट बूट पहनकर, रोज हेडलाइन बनकर , कैमरे के सामने आकर देश नहीं चलता !
पाकिस्तान – भारत की आज की परिस्थिति में भी कुछ कहना है, आपने देश के लिए कुछ नहीं किया, उरी पे आपने जान नहीं दी थी, बराहमुला में आप मारने नहीं गए गए, न ही आपके भाजपा मंत्री मरने गए थे !
शहीद जवान हुए है, आपकी सरकार में भी वही जवान है, मनमोहन सरकार में भी वही जवान थे !
एक बात मुझे अब तक समझ नही आयी, पंजाब और गोवा में इन हमलो को लेकर और सर्जिकल स्ट्राइक को आपने और आपकी पार्टी ने चुनावी मुद्दा क्यों बना लिया है ? इतने बड़े बड़े पोस्टर क्यों ?
कितना उल्लू बनाओगे जनता को और हमको साहब ?
साहब आशा है आप जबाब जरूर लिखेगे !!
– पन्द्रह लाख के इंतजार में एक आम आदमी !!
Sep 1, 2016 - Ankur Mishra, Politics    No Comments

अरविन्द केजरीवाल को एक खुला पत्र – ‘आशा को निराशा में मत बदलने दो साहब’

नमस्कार सर,

मैं अंकुर मिश्रा – एक आम आदमी !

आशा है आप कुशल होंगे ! वक्त आगे बढ़ रहा है सबको लग रहा है आप देश के लोकतंत्र और देश को आगे ले जाने का एकमात्र सहारा बचा है ! सभी राजनीतकि दलो को लोगो ने आजमा लिया है ! लोगो ने शराब से पैसे तक लेकर वोट डाले है और लोग अभी भी ऐसा कर रहे है राजनैतिक दल भी पूरे जोर शोर से पैसे लेकर विधायक और सांसद बनाने के लिए टिकट बेच रहे है ! कुछ राजनैतिक दल जाति-पाति का सहारा लेकर चुनाव लड़ रहे है तो कुछ मंदिर – मस्जिद के नाम पर चुनाव लड़ रहे है !हर राजनैतिक दाल के मुखिया से लेकर एक छोटे मंत्री तक की जिंदगी मस्ती में गुजर रही है ! जनता एक वोट बैंक है जिसे चुनाव आने पर कैश किया जाता है ! उसके बाद जनता को मिलता है –
बलात्कार, भ्रष्टाचार, महंगाई, टूटी सड़के, आत्महत्या करते किसान, भूख से मरता गरीब और पांच साल तक फिर से रोती जनता !
सर देश में नयी आशा आयी है, निराशा दूर भागी है! आन्ना आंदोलन के बाद बहुत लोगो की आँखे खुली है, देश को और लोगो को बदला जा सकता है, देश की राजनीती को बदला जा सकता है आशा की नयी किरण जगाई है उस आंदोलन ने ! इस किरण को ऐसे मत बुझने दीजिये ! जनता को पता है और जनता जानती है की आपने कोई कसर नहीं छोड़ी अच्छे लोगो को टिकट देने में मगर मुझे अब लगता है आपको एक बार मंथन की आवश्यकता है ! मैं आपकी बात से सहमत  हूँ, किसी के माथे पे नहीं लिखा होता वो व्यक्ति कैसा है और अगर समाज में उसने एक अच्छी छवि बना रखी होती है तो सभी लोग उसे अच्छा ही मानते है !
मगर हो सकता है कुछ लोगो की नियत राजनीती में आने बाद ख़राब हो गयी हो, हो सकता है कुछ लोगो को भ्रष्टाचार करने का मन करने लगा हो, और ये भी हो सकता है मंत्रियों, विधायको या फिर आप कार्यकर्ताओ में कुछ की मानसिकता परिवर्तित हो गयी हो ! मेरा सुझाव है एक बार मंथन करके जो कुछ कमियाँ पार्टी के अंदर उत्पन्न हुयी है उन्हें समाप्त करें !
प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव से भी एक बार बात करके उन्हें एक बार फिर से अच्छी राजनीती के लिए प्रेरित किया जा सकता है ! अगर आप सच में देश की दुर्दशा को बदलने निकले हो तो एट्टीट्यूड और ईगो को एक तरफ रखना होगा ! जो सही है और अच्छे है उन्हें हजार बार मनाना पड़े तो भी मनाना पड़ेगा ! वार्ना आप एक और राजनीती दल बनकर बिखर जाएगा और कुछ दिनों बाद अरविन्द केजरीवाल एक और नेता के रूप में पहचाने जाने लगेंगे !
देश की जनता ने एक नयी सुबह का सपना देखा है और दिखाया है अन्ना आंदोलन से निकले राजनैतिक दल ने ! जो सप्ता की लालची नहीं, जिसे राजनीति नहीं करनी विकास करना है देश के खोखलेपन को ख़त्म करना है, देश को सुरक्षित करना है – सप्ता के लालच में आयी किरण बेदी को जनता ने नहीं छोड़ा साहब ! तो थोड़ा जनता के साथ चलिए ! तोमर, खान और संदीप कुमार जैसे और लोग आपकी पार्टी में न हो एक बार मंथन करिये !
विश्वास मानिये अगर इस बार जनता का भरोशा टूटा तो जनता का घाव कोई नहीं भर पायेगा और जनता जिंदगी में किसी पर विश्वास तो नहीं ही करेगी !
एक आम आदमी
Aug 9, 2016 - Ankur Mishra, Politics    4 Comments

नजीब जंग को एक खुला पत्र – ‘जंग साहब – दुआएं लीजिये बद-दुआएँ नहीं ’

नजीब जंग जी नमस्कार,

कभी आप अच्छे इंसान रहे होंगे, काफी उपलब्धियां सुनी है आपकी- सिविल सर्विसेस, जामिया के चांसलर, एशियन डेवलपमेंट बैंक इत्यादि और अब आप दिल्ली के दिल पर है! राज्यपाल है आप दिल्ली के अच्छा लगता है सुनकर ! आपको रेख्ता में एक बार सुना था कभी  अच्छा और राजनैतिक बोलते हो आप !
अच्छा है सर !
अभी हाल ही में हाई कोर्ट ने दिल्ली पर आपका ही राज चलेगा ऐसा निर्णय दिया है ! क्या आप दिल से यही चाहते थे? आप जैसे साहित्यिक व्यक्ति का मैं बहुत सम्मान करता हूँ, मगर कभी कभी आपके बार में सोचता हूँ आप तो राजनैतिक हो ! आप इतने दिनों से दिल्ली के राज्यपाल हो, क्या आपको कभी नहीं लगा की हमारी दिल्ली का, आपकी दिल्ली का या मेरी दिल्ली का विकास हो !
मैंने राजनीती के अंदर कभी भी पैर नहीं रखे मगर इतना जनता हूँ राजनीती चुनाव जीतने या हारने तक होनी चाहिए फिर सरकार जनता की होती है और उस जनता के लिए सरकार को विकास करना चाहिए न की राजनीती ! और आप तो राजनैतिक आदमी हो भी नहीं फिर आप दिल्ली के लिए इतनी राजनीती क्यों कर रहे हो, क्या आप विकास में सरकार का साथ नहीं दे सकते ?
मैं उत्तर प्रदेश से हूँ, हमारे यहाँ आई. ए. एस. की बहुत इज्जत होती है क्योकि वहाँ के अनुसार, वो सबसे ज्यादा मेहनत करके बनता है – मगर आप जैसे काम आज कर रहे हो उससे आपके लिए सम्मान ख़त्म हो चुका है !
“राज्य की कार्यपालिका का प्रमुख राज्यपाल (गवर्नर) होता है, जो मंत्रिपरिषद की सलाह के अनुसार कार्य करता है। कुछ मामलों में राज्यपाल को विवेकाधिकार दिया गया है, ऐसे मामले में वह मंत्रिपरिषद की सलाह के बिना भी कार्य करता है।”
यह परिभाषा है ‘राज्यपाल’ की हमारे संविधान में – जंग साहब, आप बताइये यही परिभाषा है न?
क्या आप कभी भी दिल्ली सरकार या दिल्ली के मंत्रिपरिषद की सलाह से काम करते हो? या आदेश आपको प्रदेश के बाहर से मिलते है !
क्या आपको दिल्ली की जनता के द्वारा चुनी गयी सरकार से सलाह लेने शर्म आती है? या आपने अपने आप को दिल्ली की जनता के लिए निर्णय लेने का विवेकाधिकार दे रखा है?
सर जो भी है आप चाहो तो दिल्ली कहाँ  से कहाँ  पहुच सकता है, विवेक से काम लीजिये दिल्ली को अपना दिल दीजिये – दिल्ली सरकार का साथ दीजिये !
दिल्ली की जनता को शिकायत का मौका मत दीजिये, जंग साहब – दुआएं लीजिये बद-दुआएँ नहीं !!
एक दिल्ली वाला –
अंकुर मिश्रा
Aug 6, 2016 - Ankur Mishra    No Comments

Pokémon GO – A Real Revolutions For You

“I’ll be right back,” he said running out the door, “there’s a really good one just down the road.”  For the few of us that haven’t downloaded Pokémon GO yet, this is becoming an all too familiar scenario and it’s only been out for a week. 

Pavements, restaurants and even revered memorials are overcrowding with people glued to their phones, trying to catch a rare Pokémon or travel far enough to hatch an egg. Since Pokémon GO launched last week, millions of people have been sucked into the race to catch ’em all.

Players, or trainers as they appear in the game, have become completely absorbed in their virtual world, bumping into people and lampposts as they count up the metres needed to reach the next level.

Pokémon goes bang

The app, in which users have to move around their local area to find different Pokémon, has exploded in popularity. It’s only been out for a week but around 70 million people already have the app on their phone as it skyrocketed to the top of iTunes and Android App download charts.

On social media, discussions about Pokémon GO are everywhere, with over 100 tweets a minute using #Pokémon GO and nearly 100,000 people on Facebook mentioning it in the past 24 hours. People are sharing tips on where to find coveted rare Pokémon, grouping their friends together for advice and sharing memes poking fun at the Pokémon GO craze.

A gaming revolution

While the release of a hotly anticipated game often leads to users shutting themselves in a dark room until they reach the coveted end, this app makes people go outside, travel around their local area and talk to people trying to catch the same figures.

It takes a lot to go viral on a global, the-majority-of-your-office-has-downloaded-it, kind of scale. Pokémon have done it through a mix of nostalgic appeal, an interactive interface and a sense of community.

Pokémon GO for marketing

While it may not seem like a natural fit, there’s a huge new audience milling around and you can increase the chance of them visiting your business in a few ways.

It is possible to buy ‘Pokécoins’ to create a hotspot where Pokémon collect, which could naturally draw players towards your business. If you run a shop, restaurant or café this could work really well because once people have trekked to your front they might stop and buy a snack.

If your business doesn’t lend itself as well, you could offer charging stations to save any players missing out on Pokémon because their battery has died. Similarly, if you find a rare Pokémon near your business you could advertise this on your social channels.

In a world that is uncertain about its future, Pokémon GO transports us back to the past where the only thing that matters is catching ’em all.

You also find your ways to make it useful. :)

Jul 12, 2016 - Ankur Mishra, INDIA    2 Comments

रवीश कुमार को एक खुला पत्र – ‘वापस आ जाओ सर अब’

सर,

आपने ही सिखाया है :

ऐसे अकेला मत छोड़िए सर !

बहुत दिन हो गए, अब नाराजगी छोड़कर वापस आ जाइये ! बहुत से लोग आपके बिना उदास है, सब लोग आपसे नहीं मिल सकते, आपको फोन नहीं कर सकते, आपके पास नहीं जा सकते, आपसे बाते नहीं कर सकते और आप भी सभी लोगो से नहीं मिल सकते न ही बाते कर सकते हो मगर आप ऐसे लोगो के लिए जरूरी हो ! आपकी बाते प्रेरणा  और आदर्श होती है ऐसे लोगो के लिए ! सर आप कुछ चंद लोगो की गलती की सजा हम सब को क्यों दे रहे हो ! सोशल मीडिया ही एक माध्यम है जहां पर कभी कभी आपसे बात हो जाती थी आप जब कभी रिप्लाई करते तो लगता था आप सामने से बोल रहे हो !
मैं खुद दिनभर में कई बार आपका ट्विटर और फेसबुक का प्रोफ़ाइल खोलता और लास्ट पोस्ट देखकर बंद कर देता हूँ ! सर मांझी के बाद भी नवाज साहब फिल्में आ गयी है आशा है आपने ‘रमन-राघव’ जरूर देखि होगी ! मैं तो सलाम करता हूँ नवाज साहब की एक्टिंग को, आपको कैसी लगी बताइएगा जरूर ! और कौन कौन सी फिल्म ये भी जरूर बताइयेगा !

जब आप सोशल मीडिआ में थे तो सभी दलों की अच्छाई और बुराई खुलकर पढ़ने को मिलती थी, अब तो कोई किसी की गा रहा है कोई किसी की !  अजीब लगता है, ये सब देखकर, सर जरूरत है आपकी वर्ना लोगो को वही पढ़ने की आदत पड़ जाएगी जो आज पत्रकार और राजनैतिक दल पढ़वाना चाहते है !  प्लीज सर वापस आ जाओ, उसी पुराने अंदाज में, रोज शाम को जैसे बाते करते थे फिर से बाते करेंगे ट्विटर पे !  कई बार वैशाली से गुजरा तो सोचा आपके घर के की कुण्डी खट-खटाऊ मगर फिर सोचा आप जानते ही नहीं होगे मुझे, या आपके घर से कोई गार्ड ही वापस न भेज दे ! हिम्मत नहीं हुयी कभी, फिर सोचा आप लिखते हो- लिखकर ही भेजता हूँ आपको शायद पढ़ने का वक्त मिले, इसी पत्र को मैंने आपके घर पर भी भेजा है कभी वक्त मिले तो पढ़ियेगा जरूर !
एक बात और सर गालियाँ अब भी बरस रही है यहाँ पर, सरकार ने या किसी ने कुछ नहीं किया अभी तक ! मुझे और मेरे परिवार को भी रोजाना कुछ शब्द मिल जाते है ! पर धैर्य रखा हुआ है शायद कभी “भक्तवणी” परिवर्तित हो, सच को सच और झूठ को झूठ बोलने और समझने की हिम्मत आये उनमे ! शायद उनके भी माँ बाप हो और वो उनका सम्मान करना सीखे !
हाँ इसी “शायद” की वजह से आपका इन्तजार मैं रोज करता हूँ – शायद हम और आप मिलकर और लिखकर ही कुछ बदल दे !
शायद ये पत्र आपको वापस ला सके या शायद नहीं ! मगर सोशल मीडिया और आपके कुछ ‘फैन्स” आपको बहुत मिस करते है !
उन लोगो के लिए ही आ जाइए जिनके लिए आप थोड़ा सा भी प्यार रखते हो ! :) इंतजार है !!

अनजान,
अंकुर मिश्रा

Why work for a start-up?

You will read many myths about Startups Life but listen Working at a startup isn’t for everyone. You’ll work long long hours, with long list of plans and strategy changing daily. Everything will move very quickly and often it will feel like you’re struggling even to keep you head above the water. But in this lies the benefit.

You’ll learn a lot about a lot very quickly. Job titles are far less meaningful than they will be in many other companies, as staff are tasked with whatever needs doing rather than what they were hired for. One day you’ll be sifting through a massive database of data for opportunities, the next you’ll be doing a doing a photoshoot in the rain. Doing SUMs in excel, crafting something in board. anything and many-thing…

 

images

 

On top of learning a wide variety of different skills very quickly you’re also likely to be able to make a much bigger impact. Workers tend to have a larger impact at smaller companies, and this is especially true when the company is breaking completely new ground, rather than starting a business with a tried and tested formula. You’ll be asked to come up with, hone and execute a strategy rather than just execute one.

But you have to Trust and respect your team. You should always be a part of every small and big event of company. This is your baby. Treat like a baby. So always be prepare to work hard and give your best to your startup vision and make it Billion dollar company. This will be incredibly rewarding.

So tight your shoes and shoot your life.

Pages:«123456»